द्वारा प्रसिद्ध व्यक्तियों का राशिफल खोजे

सत्यराज 2021 राशिफल

सत्यराज Horoscope and Astrology
नाम:

सत्यराज

जन्म तिथि:

Oct 03, 1954

जन्म समय:

12:00:00

जन्म स्थान:

Coimbatore

रेखांश:

76 E 58

अक्षांश:

11 N 0

टाइम ज़ोन:

5.5

सूचना स्रोत:

Dirty Data

एस्ट्रोसेज रेटिंग:

अप्रामाणिक स्रोत (अ.स्रो.)


सत्यराज का रोजगार राशिफल

सत्यराज के अन्दर विषय की गहराइयों को समझने की क्षमता है और सत्यराज को उसी दिशा में कार्यक्षेत्र का चयन करना चाहिये। ये प्रोजेक्ट अपने सत्यराज में पूर्ण होने चाहिये और उसे खत्म करने की कोई समय-सीमा या दवाब नहीें होनी चाहिये। उदाहरणार्थ, यदि सत्यराज ‘इंटीरियर डीजाइन‘ को अपना कार्यक्षेत्र बनाते हैं, तो सत्यराज के उपभोक्ताओं के पास प्रचुर धन होना चाहिये ताकि सत्यराज अपना कार्य उत्तम तरीके से कर सकें।

सत्यराज का व्यवसाय राशिफल

ऐसे कई पारितोषिक कार्यक्षेत्र हैं, जहां पर सत्यराज लाभ प्राप्त कर सकते हैं। ऐसे कई सारे कार्यक्षेत्र हैं जहां पर मौलिकता आवश्यक है और जो पुरुष एवं स्त्री पर समान रूप से लागू होते हैं, वे सभी सत्यराज के स्वभाव के अनुरूप हैं। यही गुण यदि दूसरी दिशा में उपयोग किये जाएं, तो व्यवस्था सम्बन्धी कार्यक्षेत्र में उपयोगी हो सकते हैं। इस तरह बड़े व्यापारिक संस्थानों के नेतृत्व के लिये सत्यराज उपयुक्त हैं। ऐसे कार्यक्षेत्र जहां पर निरन्तर एक जैसा कार्य करना पड़ता है, उनसे सत्यराज को बचना चाहिए। ऐसे कार्यक्षेत्र सत्यराज के लिये उपयुक्त नहीं हैं।

सत्यराज का वित्त राशिफल

वित्त का प्रश्न सत्यराज के लिये अत्यन्त विशिष्ट है। सत्यराज के धन सम्बन्ध में हमेशा ही अनिश्चय व उतार-चढ़ाव की सम्भावना है,लेकिन सत्यराज अपने आविष्कारिक विचारों के कारण खूब धनार्जन करेंगे। सत्यराज कल्पनाओं और स्वप्न लोक में जीते हैं तथा निराशा को प्राप्त होते हैं। सत्यराज को हर प्रकार की सट्टेबाजी और जुए से दूर रहना चाहिए। आर्थिक मामलों में सत्यराज के साथ संभावित से अधिक असंभावित घटित होता है। सत्यराज के मस्तिष्क में मौलिक विचारों व युक्तियों का जन्म होगा, जोकि अन्य लोगों के विचारों से सामंजस्य स्थापित नहीं कर पाएगा। सत्यराज असामान्य तरीके पैसा बनाएंगे, सत्यराज एक आविष्कारक या असाधारण व्यवसायी होंगे। कई माइनों में, आविष्कार, जोखिम से जुड़े व्यापार इत्यादि में सत्यराज भाग्यशाली होंगे। सत्यराज के पास मौलिक विचार एवं उसके लिये योजनाएं होंगी, लेकिन उनके क्रियान्वयन के लिए भागीदार से सामंजस्य नहीं हो पाएगा। इस प्रकार सत्यराज अपनी कई उत्तम योजनाओं का दुःखद अन्त देखेंगे।