chat_bubble_outline Chat with Astrologer

द्वारा प्रसिद्ध व्यक्तियों का राशिफल खोजे

श्रीहरि 2022 राशिफल

श्रीहरि Horoscope and Astrology
नाम:

श्रीहरि

जन्म तिथि:

Aug 15, 1964

जन्म समय:

12:0:0

जन्म स्थान:

Hyderabad

रेखांश:

78 E 26

अक्षांश:

17 N 22

टाइम ज़ोन:

5.5

सूचना स्रोत:

Unknown

एस्ट्रोसेज रेटिंग:

अप्रामाणिक स्रोत (अ.स्रो.)


श्रीहरि का रोजगार राशिफल

क्योंकि श्रीहरि जीवन की प्रत्येक घटना के प्रति संवेदनशील हैं, श्रीहरि कम झंझट और दवाब वाला काम पसन्द करते हैं। जीवन में कार्यक्षेत्र के चयन के लिये श्रीहरि अपनी अन्तरात्मा की आवाज सुनें और उसी दिशा में कार्य करें।

श्रीहरि का व्यवसाय राशिफल

श्रीहरि के पास अद्भुत स्मरण शक्ति, बेहतर स्वास्थ्य एवंश्रीहरि के चरित्र में एक विशेष आकर्षण है। यह निश्चित तौर पर इंगित करता है कि श्रीहरि नेतृत्व करने के लिये ही पैदा हुए हैं। चाहे श्रीहरि का कार्यक्षेत्र कोई भी क्यों न हो, श्रीहरि उसमें बेहतर करेंगे। परन्तु जब श्रीहरि छोटे पद से वरिष्ठ पद की ओर बढेंगे तथा यदि पदोन्नति मन्द होगी, तो श्रीहरि निराश हो जाएंगे और कुछ गलत बोलकर श्रीहरि अपने हाथ आए हुए अवसर को खो देंगे। एक बार श्रीहरि वरिष्ठ पद पर पहुँच गये, श्रीहरि दृढ़ता से स्वयं को स्थापित कर पाएंगे। इससे यह स्पष्ट होता है कि श्रीहरि उच्च पद पर अपेक्षाकृत बेहतर प्रदर्शन करेंगे। निश्चय ही, हमारी यह सलाह है कि आरम्भिक समय में श्रीहरि आगे बढ़ने के प्रति सचेत रहें।

श्रीहरि का वित्त राशिफल

वित्त का प्रश्न श्रीहरि के लिये अत्यन्त विशिष्ट है। श्रीहरि के धन सम्बन्ध में हमेशा ही अनिश्चय व उतार-चढ़ाव की सम्भावना है,लेकिन श्रीहरि अपने आविष्कारिक विचारों के कारण खूब धनार्जन करेंगे। श्रीहरि कल्पनाओं और स्वप्न लोक में जीते हैं तथा निराशा को प्राप्त होते हैं। श्रीहरि को हर प्रकार की सट्टेबाजी और जुए से दूर रहना चाहिए। आर्थिक मामलों में श्रीहरि के साथ संभावित से अधिक असंभावित घटित होता है। श्रीहरि के मस्तिष्क में मौलिक विचारों व युक्तियों का जन्म होगा, जोकि अन्य लोगों के विचारों से सामंजस्य स्थापित नहीं कर पाएगा। श्रीहरि असामान्य तरीके पैसा बनाएंगे, श्रीहरि एक आविष्कारक या असाधारण व्यवसायी होंगे। कई माइनों में, आविष्कार, जोखिम से जुड़े व्यापार इत्यादि में श्रीहरि भाग्यशाली होंगे। श्रीहरि के पास मौलिक विचार एवं उसके लिये योजनाएं होंगी, लेकिन उनके क्रियान्वयन के लिए भागीदार से सामंजस्य नहीं हो पाएगा। इस प्रकार श्रीहरि अपनी कई उत्तम योजनाओं का दुःखद अन्त देखेंगे।